निगाह-ए-यार की तरह!

वो तो हैं कहीं और मगर दिल के आस पास,
फिरती है कोई शै निगाह-ए-यार की तरह|

मजरूह सुल्तानपुरी

2 Comments

Leave a Reply