आवाज़ होती जा रही है!

नहीं आता समझ में शोर-ए-हस्ती,
बस इक आवाज़ होती जा रही है|

आनंद नारायण ‘मुल्ला’

Leave a Reply