चेहरे पे नूर था!

पीते तो हमने शैख़ को देखा नहीं मगर,
निकला जो मै-कदे से तो चेहरे पे नूर था|

आनंद नारायण ‘मुल्ला’

Leave a Reply