मै-कदों में मगर दूर दूर था!

‘मुल्ला’ का मस्जिदों में तो हमने सुना न नाम,
ज़िक्र उसका मै-कदों में मगर दूर दूर था|

आनंद नारायण ‘मुल्ला’

Leave a Reply