इतना दर्द कहाँ से आया!

गीत है या फ़रियाद किसी की, नग़मा है या दिल की तड़प,
इतना दर्द कहाँ से आया साज़ों की झंकारों में।

नक़्श लायलपुरी

Leave a Reply