तेरे बदन की महक छा गई!

अपनी साँसों की ख़ुशबू लगे अजनबी,
मुझ पर तेरे बदन की महक छा गई।

नक़्श लायलपुरी

Leave a Reply