बस्ती के चौबारों में!

हर पनघट पर मेरे फ़साने, चौपालों पर ज़िक्र मेरा,
मेरी ही बातें होती हैं बस्ती के चौबारों में।

नक़्श लायलपुरी

Leave a Reply