बैठ के अपने यारों में!

सब का दिल हो अपने जैसा अनहोनी सी बात लगे,
’नक़्श’ यह क्या सोचा करते हो बैठ के अपने यारों में।

नक़्श लायलपुरी

Leave a Reply