बिखरता रहा हूँ मैं!

मैं मौसमों के जाल में जकड़ा हुआ दरख़्त,
उगने के साथ-साथ बिखरता रहा हूँ मैं|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply