घर निकलने लगते हैं!

पुराने शहरों के मंज़र निकलने लगते हैं,
ज़मीं जहाँ भी खुले घर निकलने लगते हैं|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply