मेरे पर निकलने लगते हैं!

बुलन्दियों का तसव्वुर भी ख़ूब होता है,
कभी कभी तो मेरे पर निकलने लगते हैं|

राहत इन्दौरी

2 Comments

Leave a Reply