किताबों में क्या मिले!

दुनिया को दूसरों की नज़र से न देखिये,
चेहरे न पढ़ सके तो किताबों में क्या मिले|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply