समंदर से जा मिले!

क़तरा अब एहतिजाज* करे भी तो क्या मिले,
दरिया जो लग रहे थे समंदर से जा मिले|

(*विरोध, आपत्ति)
वसीम बरेलवी

Leave a Reply