ख़ाक में मिलने का डर नहीं होता!

मैं उसकी आँख का आँसू न बन सका वर्ना,
मुझे भी ख़ाक में मिलने का डर नहीं होता|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply