फ़क़ीर को शाहों का डर नहीं होता!

हमारी आँख के आँसू की अपनी दुनिया है,
किसी फ़क़ीर को शाहों का डर नहीं होता|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply