बातों से सर नहीं होता!

कभी लहू से भी तारीख़ लिखनी पड़ती है,
हर एक मारका बातों से सर नहीं होता|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply