आकाश-सी छाती तो है!

दुख नहीं कोई कि अब उपलब्धियों के नाम पर,
और कुछ हो या न हो, आकाश-सी छाती तो है|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply