गूँगी ही सही, गाती तो है!

एक खँडहर के हृदय-सी,एक जंगली फूल-सी,
आदमी की पीर गूँगी ही सही, गाती तो है|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply