जा के बतियाती तो है!

निर्वसन मैदान में लेटी हुई है जो नदी,
पत्थरों से ओट में जा-जा के बतियाती तो है|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply