ख़तरनाक सच्चाई नहीं जाने वाली!

देख, दहलीज़ से काई नहीं जाने वाली,
ये ख़तरनाक सच्चाई नहीं जाने वाली|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply