बुझाई नहीं जाने वाली!

कितना अच्छा है कि साँसों की हवा लगती है,
आग अब उनसे बुझाई नहीं जाने वाली|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply