ये खाई नहीं जाने वाली!

एक तालाब-सी भर जाती है हर बारिश में,
मैं समझता हूँ ये खाई नहीं जाने वाली|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply