और फैला है धुआँ मेरा!

किसी बस्ती को जब जलते हुए देखा तो ये सोचा,
मैं ख़ुद ही जल रहा हूँ और फैला है धुआँ मेरा|

बेकल उत्साही

Leave a Reply