ठिकाना है कहाँ मेरा!

सुनहरी सरज़मीं मेरी, रुपहला आसमाँ मेरा,
मगर अब तक नहीं समझा, ठिकाना है कहाँ मेरा|

बेकल उत्साही

Leave a Reply