तारों से झाँकता है मुझे!

रात तनहाइयों के आंगन में,
चांद तारों से झाँकता है मुझे|

बेकल उत्साही

Leave a Reply