नहीं कोई मकाँ मेरा!

मैं जब लौटा तो कोई और ही आबाद था “बेकल”,
मैं इक रमता हुआ जोगी, नहीं कोई मकाँ मेरा|

बेकल उत्साही

Leave a Reply