अब रोज़ ही आ जाते हैं!

रोज़ बसते हैं कई शहर नए
रोज़ धरती में समा जाते हैं,
ज़लज़लों में थी ज़रा सी गर्मी
वो भी अब रोज़ ही आ जाते हैं|

कैफ़ी आज़मी

Leave a Reply