तक़दीर में ख़तरा भी नहीं!

कोई कहता था समुन्दर हूँ मैं
और मेरी जेब में क़तरा भी नहीं,
ख़ैरियत अपनी लिखा करता हूँ
अब तो तक़दीर में ख़तरा भी नहीं|

कैफ़ी आज़मी

Leave a Reply