लफ्ज़ों को मोहतरम कर दे!

सँवार नोक पलक अबरूओं में ख़म कर दे,
गिरे पड़े हुए लफ्ज़ों को मोहतरम कर दे|

बशीर बद्र

Leave a Reply