सुलगती रेत रखकर चल दिया!

मेरी मुट्ठी में सुलगती रेत रखकर चल दिया,
कितनी आवाज़ें दिया करता था ये दरिया मुझे|

बशीर बद्र

Leave a Reply