ग़ज़ल है कि हो रही है अभी!

अव्वल अव्वल की दोस्ती है अभी,
इक ग़ज़ल है कि हो रही है अभी|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply