दुपहरिया!

आज मैं स्वर्गीय केदारनाथ सिंह जी का एक नवगीत शेयर कर रहा हूँ| केदारनाथ सिंह जी हिन्दी के प्रतिष्ठित रचनाकार रहे हैं और उनको ‘साहित्य अकादमी पुरस्कार’ सहित अनेक सम्मान और पुरस्कार प्राप्त हुए थे| आज का यह नवगीत अज्ञेय जी द्वारा संपादित ‘तीसरा सप्तक’ में शामिल एक किया गया था|

लीजिए आज प्रस्तुत है स्वर्गीय केदारनाथ सिंह जी का यह नवगीत, जो गर्मी की दोपहर का एक अलग ही चित्र प्रस्तुत करता है –

झरने लगे नीम के पत्ते
बढ़ने लगी उदासी मन की,

उड़ने लगी बुझे खेतों से
झुर-झुर सरसों की रंगीनी,
धूसर धूप हुई मन पर ज्यों —
सुधियों की चादर अनबीनी,

दिन के इस सुनसान पहर में
रुक-सी गई प्रगति जीवन की ।

साँस रोक कर खड़े हो गए
लुटे-लुटे-से शीशम उन्मन,
चिलबिल की नंगी बाँहों में
भरने लगा एक खोयापन,


बड़ी हो गई कटु कानों को
‘चुर-मुर’ ध्वनि बाँसों के वन की ।

थककर ठहर गई दुपहरिया,
रुक कर सहम गई चौबाई,
आँखों के इस वीराने में —
और चमकने लगी रुखाई,

प्रान, आ गए दर्दीले दिन,
बीत गईं रातें ठिठुरन की ।


आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|
********

2 Comments

Leave a Reply