कैसा मौसम है कुछ नहीं खुलता!

कैसा मौसम है कुछ नहीं खुलता,
बूंदा-बांदी भी धूप भी है अभी|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply