ज़ुल्फ़ों में टांकती है अभी!

फ़सले-गुल में बहार पहला गुलाब,
किसकी ज़ुल्फ़ों में टांकती है अभी|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply