दूरियों में भी दिलकशी है अभी!

क़ुरबतें* लाख खूबसूरत हों,
दूरियों में भी दिलकशी है अभी |
*नज़दीकियाँ
अहमद फ़राज़

Leave a Reply