वो जो इक शख़्स था वही है अभी!

ऐसा लगता है ख़ल्वत-ए-जां में,
वो जो इक शख़्स था वही है अभी|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply