गुमनाम से जल जाते हैं!

शमा जिस आग में जलती है नुमाइश के लिये,
हम उसी आग में गुमनाम से जल जाते हैं|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply