मुस्कुरा के बात करे आश्ना लगे!

वो क़हर दोस्ती का पड़ा है कि इन दिनों,
जो मुस्कुरा के बात करे आश्ना लगे|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply