रक़ीब की न मुझे बददुआ लगे!

मैं इसलिये मनाता नहीं वस्ल की ख़ुशी,
मेरे रक़ीब की न मुझे बददुआ लगे|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply