हम चराग़ों की तरह!

गर्मी-ए-हसरत-ए-नाकाम से जल जाते हैं,
हम चराग़ों की तरह शाम से जल जाते हैं|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply