अपने तो लेकिन इम्तिहाँ मे खो गए!

ज़िंदगी हमने सुना था चार दिन का खेल है,
चार दिन अपने तो लेकिन इम्तिहाँ मे खो गए|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply