हम जिस जहाँ मे खो गए!

जुस्तजू में जिसकी हम आए थे वो कुछ और था,
ये जहाँ कुछ और है हम जिस जहाँ मे खो गए|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply