पाँवों के छालों को क्या करूँ!

चलना ही है मुझे मेरी मंज़िल है मीलों दूर,
मुश्किल ये है कि पाँवों के छालों को क्या करूँ|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply