इक तेज घुड़सवार है!

टापें बिछा रही हैं, अंधेरे में जामुनें,
इक तेज घुड़सवार है, जामुन का पेड़ है।

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply