जिस ओर को दुआर है!

रस्ता न भूलिएगा, दुखों के मकान का,
जिस ओर को दुआर है, जामुन का पेड़ है।

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply