बूढ़ों का ये विचार है!

अश्कों में भीगकर जो, मिठाता है और भी,
बूढ़ों का ये विचार है, जामुन का पेड़ है।

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply