सावन की यादगार है!

बैठा है तनहा बाग में, एक बूढ़ा आदमी,
सावन की यादगार है, जामुन का पेड़ है।

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply