अब मेरे सर पर नहीं रहा!

इस घर में जो कशिश थी, गई उन दिनों के साथ,
इस घर का साया अब मेरे सर पर नहीं रहा|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply