रहना था उसको साथ मेरे!

वो हुस्न-ए-नौबहार अबद शौक़ जिस्म सुन,
रहना था उसको साथ मेरे, पर नहीं रहा|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply