हाल की हो किस तरह ख़बर!

रहबर को उनके हाल की हो किस तरह ख़बर,
लोगों के दरमियां कभी आकर नहीं रहा|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply